- Advertisement -

सुलतानपुर के.एन. आई. टी. के यान्त्रिकी अभियान्त्रिकी विभाग में विशेष व्याख्यान का हुआ आरम्भ।

0 33

कमला नेहरु प्रौद्योगिकी संस्थान के यान्त्रिकी अभियान्त्रिकी विभाग में विशेष व्याख्यान का हुआ आरम्भ

कमला नेहरु प्रौद्योगिकी संस्थान के यान्त्रिकी अभियान्त्रिकी विभाग में साप्ताहिक विशेष लेक्चर सीरीज का आरम्भ विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ अखिलेश कुमार चौहान द्वारा दिनांक २७/01/२०२४ को किया गया|

- Advertisement -

डॉ चौहान ने अपने व्याख्यान कनेक्टेड बॉडीज के किनेमेटिक्स पर प्रकाश डालते हुए उसकी मानव जीवन में उपयोगिता, उनके नियमो एवं जरूरतों के बारे में चर्चा किया| कनेक्टेड बॉडीज के किनेमेटिक्स और उनके आम तौर पर परस्पर या जुड़े यांत्रिक प्रणालियों की गति के अध्ययन को संदर्भित करता है। इसमें कई निकायों के आंदोलन और व्यवहार का विश्लेषण करना शामिल होता है जो जोड़ों, लिंक या अन्य यांत्रिक घटकों के माध्यम से एक साथ जुड़े या जुड़े हुए होते हैं। जुड़े निकायों के कीनेमेटीक्स में प्रमुख अवधारणाओं में शामिल हैं: स्वतंत्रता की डिग्री, जोड़ और कनेक्शन, निर्देशांक प्रणाली, बाधाएं (constraint), एवं गति के समीकरण.

- Advertisement -

स्वतंत्र मापदंडों या गतियों की संख्या जो एक प्रणाली के विन्यास की विशेषता है। जुड़े निकायों में, स्वतंत्रता की डिग्री निकायों के बीच संबंधों द्वारा लगाए गए बाधाओं से प्रभावित होती है। निकायों के बीच जोड़ों और कनेक्शन का प्रकार सिस्टम की संभावित गतियों को निर्धारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विभिन्न प्रकार के जोड़ स्वतंत्रता की विभिन्न डिग्री की अनुमति देते हैं और विशिष्ट प्रकार के आंदोलनों को प्रतिबंधित करते हैं। जुड़े हुए निकायों की गति का वर्णन करने के लिए उपयुक्त समन्वय प्रणाली स्थापित करना आवश्यक होता है। इसमें सिस्टम में प्रत्येक शरीर की स्थिति, अभिविन्यास और वेग को परिभाषित करना शामिल होता है। निकायों के बीच कनेक्शन द्वारा लगाए गए अवरोध उनके सापेक्ष गति को प्रभावित करते हैं। जुड़े निकायों के कीनेमेटीक्स के सटीक विश्लेषण के लिए इन बाधाओं को समझना और मॉडलिंग करना महत्वपूर्ण होता है। उचित समीकरणों का विकास करना तथा प्रत्येक शरीर की गति और उनके बीच संबंधों का वर्णन करना, किनेमेटीक्स का एक मूलभूत पहलू होता है। ये समीकरण अक्सर न्यूटनियन यांत्रिकी, यूलर कोण या अन्य गणितीय तरीकों के आधार पर प्राप्त होते हैं।

डॉ चौहान बताया कि जुड़े निकायों के कीनेमेटीक्स के अनुप्रयोग को रोबोटिक्स, बायोमैकेनिक्स, मैकेनिकल इंजीनियरिंग और भौतिकी सहित विभिन्न क्षेत्रों में देखा जा सकते हैं। कीनेमेटीक्स को विस्तार से समझाने एवं जुड़े निकायों के कीनेमेटीक्स पर नवीनतम शोध या समाचार के लिए डॉ चौहान ने निम्नलिखित जर्नल्स के आर्टिकल को अध्यन करने के सुझाव दिया जर्नल ऑफ़ मैकेनिज्म एंड रोबोटिक्स, मैकेनिज्म ऑफ़ मशीन थ्योरी, रोबोटिका, मल्टीबॉडी सिस्टम डायनेमिक्स, एवं जर्नल ऑफ रोबोटिक्स एंड ऑटोनॉमस सिस्टम्स| शोधकर्ता और इंजीनियर इस ज्ञान का उपयोग जटिल प्रणालियों जैसे रोबोटिक हथियारों, मानव अंगों, या परस्पर घटकों के साथ मशीनरी के आंदोलन को डिजाइन और विश्लेषण करने के लिए करते हैं। संस्थान के निदेशक डॉ रा० के० उपाध्याय एवं विभाग के निम्नलिखित संकाय सदयस्य डॉ चौहान के विशेष लेक्चर में उपस्थित थे 1. प्रो ए के मालविया 2. प्रो यू के माहेश्वरी 3. प्रो अवधेश कुमार, 4. प्रो एच के मिश्रा 5. प्रो हर्ष विक्रम सिंह, 6. प्रो सौरभ मणि त्रिपाठी 7. प्रो राकेश कुमार सिंह 8. प्रो अमित मेधावी 9. प्रो अनिल कुमार अन्य संकाय सदस्य उपस्थित रहे|अंत में विभागाध्यक्ष प्रो रजनीश सिंह ने धन्यवाद् ज्ञापित करते हुए डॉ चौहान को अन्य संकाय सदस्यों के साथ बधाई दिया| अंत में निदेशक महोदय ने प्रो चौहान को सर्टिफिकेट देकर समानित किया

सुल्तानपुर बैडमिंटन चैंपियनशिप का आयोजन, सीडीओ व एडीएम ने अपने ऑफिशियल मैच से किया उद्घाटन।

Leave A Reply

Your email address will not be published.