- Advertisement -

Barabanki- 60 साल बाद तीन हजार रुपए पेंशन पक्की, प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना का डीएम ने किया शुभारंभ,

0 228

Barabanki Story- 60 साल बाद तीन हजार रुपए पेंशन पक्की, प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना का डीएम ने किया शुभारंभ, सरकारी और प्राइवेट दोनों सेक्टर के कर्मचारियों को मिलेगा फायदा

- Advertisement -

एंकर- प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना की शुुरूआत आज प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री ने कर दी। इसी के तहत बाराबंकी जिले में भी लाभ्यर्थियों को योजना के कार्ड देने के लिए कार्यक्रम का आयोजन कलेक्ट्रेट में हुआ। इसमें करीब 48 लाभार्थियों को डीएम, सीडीओ समेत अन्य जनप्रतिनिधियों ने कार्ड देकर योजना की शुरूआत की। प्रधानमंत्री श्रम मानधन पेंशन योजना का मुख्य लक्ष्य असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे लोगों को रिटायरमेंट के बाद सुरक्षा देना है। इस योजना से जुड़ने वालों को 60 साल की उम्र के बाद 3 हजार रुपए की पेंशन मिलेगी।

वीओ- जिले में करीब पौन पांच लाख मजदूर और संविदा कर्मियों को प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना का लाभ दिया जा रहा है। इसमें से 48 लाभार्थियों को आज कलेक्ट्रेट के एक कार्यक्रम में डीएम ने कार्ड सौंपे। वहीं सीडीओ समेत तमाम आलाधिकारियों के साथ जिले के विधायक भी इस कार्यक्रम में शामिल हुए। इस योजना के अंतर्गत 18 से 40 साल तक के सरकारी विभागों के संविदाकर्मी, मनरेगा मजदूूर समेत दूसरे प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों का रजिस्ट्रेशन जन सेवा केंद्र पर मुफ्त किया जा रहा है। रजिस्ट्रेशन कराने वालों को आयु सीमा के आधार पर 55 रुपये से दो सौ रुपये तक हर महीने जमा करने होंगे। योजना से जुड़ने वालों को 60 साल की उम्र के बाद 3 हजार रुपए की पेंशन मिलेगी।

- Advertisement -

वीओ- वहीं इस योजना की शुरुआत करते हुए बाराबंकी के जिलाधिकारी उदय भानु त्रिपाठी ने कहा कि असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों और मजदूरों के लिए प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री ने श्रम योगी मानधन योजना की शुरुआत की है। इसके अंतर्गत 18 से 40 साल तक के श्रमिक, जिनकी मासिक आय 15 हजार रुपए से कम है वह इसमें रजिस्ट्रेशन कहा सकते हैं। इसमें 48 लोगों को कार्ड दिए गए हैं, जबकि करीब दो हजार लोगों का रजिस्ट्रेशन हमारे यहां हो गया है। इस योजना के लाभार्थियों को 60

साल के बाद सरकार 3 हजार रुपए पेंशन देगी।

बाइट- उदय भानु त्रिपाठी, जिलाधिकारी, बाराबंकी।

रिपोर्टर, सैफ मुख्तार

Leave A Reply

Your email address will not be published.