- Advertisement -

रोज फुंकते ट्रांसफॉर्मर, नही चल पाती लाइन- रायबरेली

0 149

रोज फुंकते ट्रांसफॉर्मर, नही चल पाती लाइन

रिपोर्ट- हिमांशु शुक्ला

- Advertisement -

रायबरेली : गर्मी के इस मौसम में बिजली को भी लू लग गई है। पहले जहां शहर से लेकर गांवों तक बढि़या आपूर्ति की खबरें आती थीं, वहीं अब उपभोक्ता त्रस्त हैं। ट्रिपिग का सिलसिला पूरे दिन चलता है। रात में भी आवाजाही परेशान करती है। इससे भी बड़ी समस्या लोकल फाल्ट की है। जिसने तय रोस्टर और पूरी आपूर्ति व्यवस्था को ध्वस्त कर दिया है, मगर अफसर गुणवत्तापरक बिजली देने के दावे करने से बाज नहीं आ रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि जिले में चार लाख बिजली उपभोक्ता हैं। वहीं बिजली आपूर्ति व्यवस्था कैसी है, इसकी पोल पावर कॉरपोरेशन के वर्कशॉप के आंकड़े खोल रहे हैं। इन आंकड़ों के मुताबिक 23 अप्रैल से लेकर 22 मई तक कुल 389 ट्रांसफॉर्मर शहर से लेकर ग्रामीण अंचल तक जले। ये तो रही पूरे महीने की बात। अगर, इन आंकड़ों को प्रतिदिन में बदलें तो संख्या लगभग 13 की आएगी। मतलब है कि प्रतिदिन 13 ट्रांसफॉर्मर जिले में फुंक रहे हैं। शहर में ही 22 ट्रांसफॉर्मर एक माह में जल गए। वजह, सिर्फ ओवरलोडिग है। इसके अलावां सबसे बड़ी समस्या लोकल फाल्ट की है। बात चाहे शहर की हो या गांव की। हर जगह इस समस्या से उपभोक्ता आजिज आ चुके हैं। ऐसा कोई दिन नहीं होता, जब शहर में दो-चार घंटे बत्ती गुल रहे। वहीं ग्रामीणअंचल का तो हाल और भी खराब है। आदेश 18 घंटे बिजली देने का है, लेकिन उपभोक्ताओं को 10 से 12 घंटे आपूर्ति मिलती है। लालगंज, बछरावां, सतांव, खीरों, हरचंदपुर, डलमऊ, डीह, ऊंचाहार, महराजगंज और सरेनी समेत जिले के हर ब्लॉक क्षेत्र का यही हाल है।

इनसेट-

जिले में जले ट्रांसफॉर्मरों पर एक नजर

क्षमता : संख्या

10 केवीए : 9

16 केवीए : 35

25 केवीए : 34 (सिगल फेज)

25 केवीए : 214 (थ्री फेज)

- Advertisement -

63 केवीए : 55

100 केवीए : 14

160 केवीए : 3

250 केवीए : 11

400 केवीए : 14

————

ट्रांसफॉर्मरों की मरम्मत पर उठ रहे सवाल

जिस तरह से जिले में ट्रांसफॉर्मर जल रहे हैं, उससे उनकी मरम्मत में गुणवत्ता पर भी सवाल उठ रहे हैं। विभागीय सूत्रों का कहना है कि मरम्मत के समय मानकों का ध्यान नहीं रखा जाता है। यही कारण है कि आए दिन ट्रांसफॉर्मर जल जाते हैं, मगर इस पर किसी का ध्यान नहीं जा रहा है।

कोट –

जिले में बिजली आपूर्ति व्यवस्था बेहतर है। रोस्टर के अनुसार शहर को 24 और गांवों को 18 घंटे बिजली दी जा रही है। लोकल फॉल्ट के कारण कुछ दिक्कतें आती हैं। वरना, इस समय तो वोल्टेज की भी समस्या नहीं है।

-पंकज श्रीवास्तव, अधीक्षण अभियंता, विद्युत वितरण मंडल प्रथम

Leave A Reply

Your email address will not be published.