- Advertisement -

सुलतानपुर जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी द्वारा मदरसों पर दिखाया सख्त रुख,मॉडयूल की डाटा इण्ट्री शूरू न होने कभी भी मदरसों पर हो सकती हैं कार्यवाही।

0 59

सुलतानपुर जनपद में संचालित संस्था/ मदरसा द्वारा यू-डायस+पोर्टल पर स्कूल प्रोफाइल एण्ड फैसिलिटी मॉडयूल, टीचर मॉडयूल, तथा स्टूडेण्ट मॉडयूल की डाटा इण्ट्री शूरू न होने / वांछित सूचनाएं भरे न जाने को लेकर जनपद में संचालित मदरसों पर जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी सुनीता चौरसिया ने सख्त रुख अपना है। उन्होंने जनपद के मदरसा के प्रबन्धक / प्रधानाचार्य को बेसिक शिक्षा विभाग के सम्बन्धित ब्लाक के बी०आर०सी०/एम०पी०आर०सी से तत्काल आज ही समन्वय स्थापित कर दिये गये निर्देश के अनुसार कार्य को पूर्ण कराये जाने की बात कही है, अन्यथा की दशा में मदरसे के यू-डायस कोड, यू-डायस पोर्टल पर ब्लाक कर दिया जायेगा जिसकी वजह से मदरसे का पठन पाठन कार्य नही किया जा सकेगा, जिसका सम्पूर्ण उत्तरदायित्व स्वयं मदरसा संचालको का होगा।
आगे की जानकारी देते हुए श्रीमती चौरसिया ने बताया कि कई बार पत्रों के माध्यम से और साथ ही राज्य परियोजना निदेशक द्वारा सात फरवरी को जूम मीटिंग के माध्यम से समीक्षा करते हुए यू-डायस+पोर्टल पर मदरसो में अध्ययनरत छात्रो, एवं स्कूल प्रोफाइल, स्कूल टीचर डाटा/प्रोफाइल दिनांक 14 फरवरी तक अन्तिम अवसर प्रदान कर शत प्रतिशत फीड / पूर्ण कराते हुए अवशेष के सम्बन्ध में कारण बताते हुए स्पष्ट आख्या व प्रमाण पत्र अधोहस्ताक्षरी कार्यालय को उपलब्ध किये जाने हेतु निर्देशित किया गया था, लेकिन उक्त के बावत में भी मदरसा संचालको द्वारा अभी कार्य पूर्ण नही कराया गया है।

वही जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा महानिदेशक, स्कूल शिक्षा एवं राज्य परियोजना निदेशक उ०प्र० लखनऊ के कार्यालय पत्र विभाग द्वारा जारी लेटर के बारे में अवगत कराया गया कि जनपद मे संचालित विभिन्न शैक्षिक संस्थाओं द्वारा यू-डायस पोर्टल पर भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा वांछित सूचनाओं को समय से उपलब्ध न कराने तथा निर्देशो के अनुपालन न किये की स्थिति में सम्बन्धित दोषी संस्था/मदरसा के विरूद्ध विभागीय कार्यवाही किये जाने हेतु निर्देश प्रदान किये गये है।

- Advertisement -

- Advertisement -

जिला अल्पसंख्यक अधिकारी सुनीता चौरसिया ने कहा कि अंत ने इतना ही कहना है कि मदरसा संचालको द्वारा जल्द ही बेसिक शिक्षा विभाग के सम्बन्धित ब्लाक के बी०आर०सी०/एम०पी०आर०सी से तत्काल आज ही समन्वय स्थापित कर फीडिंग करा दी जाय अन्यथा की दशा ने सम्पूर्ण जिम्मेदारी मदरसा के प्रबन्धक / प्रधानाचार्य की होगी।

सुलतानपुर खनन विभाग द्वारा लगभग पांच लाख रुपये एक ईंट भट्ठे से अबैध खनन व विनिमय शुल्क कराया गया जमा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.